अब कैसे कृष्ण , कैसे राम निकलेगा 

 

तेरा न बोलना बहुत देर तक खलेगा 
एक न एक दिन तेरा घर भी जलेगा 

नज़र बंद हो अपनी बोई नफरतों में 
फिर रहीम और कबीर कहाँ मिलेगा 

चाँद को चुराके रात को दोष देते हो 
इंतज़ार करो , आसमाँ भी पिघलेगा 

जाति,धरम,नाम सबसे तो खेल लिया 
अब कैसे कृष्ण , कैसे राम निकलेगा 

पानी,हवा,मिटटी सब तो बँट गए हैं 
किस आँगन में अब गुलाब खिलेगा 

सब को बदल दिया खुद को छोड़के 
सच को झूठ से और कितना बदलोगे 


तारीख: 20.08.2019                                                        सलिल सरोज






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है