मशहूर हुआ


दीप जला और नूर हुआ
अँधियारा सब दूर हुआ

सुनकर तेरी बातों को
दिल ये चकनाचूर हुआ

जुल्मोसितम तेरे सहना
अब मुझको मंजूर हुआ

गम औ धोखा देना ही
इश्क का अब दस्तूर हुआ

इतनी आसानी से 'गगन'
कौन यहाँ मशहूर हुआ


तारीख: 14.06.2017                                                        पीयूष गुप्ता






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है